कैसे रहेंगे तुम बिन सनम

कैसे रहेंगे तुम बिन सनम
कैसे रहेंगे तुम बिन सनम

कैसे रहेंगे तुम बिन सनम

जिएंगे मरेंगे तड़पेगे हम

रोएगे बहुत मगर, आंसू ना आएगे

छोड़कर गए हो तुम, रह हम ना पाएंगे

देखेने को तुमको तरसेंगे हम

कैसे रहेंगे तुम बिन सनम

जिएंगे मरेंगे तड़पेगे हम।

नहीं हो तुम यहां, मालूम है मुझे

पर दिल अब भी कहता है, तू यहीं है कहीं

मुश्किल होता है, कुछ पलों को भुलाना

जिंदगी का क्या है

तेरी यादों के सहारे जिंदगी भी बीत जाएगी

तेरी याद जो आएगी, आंखे भर आएगी

आंखों का क्या है

आंखें तो आंसू बहा कर, पत्थर बन जाएगी

दिल तो फिर भी रोएगा, तेरी याद जो आएगी

कैसे रहेंगे तुम बिन सनम

जिएंगे मरेंगे तड़पेगे हम।

मेरे दिल में बसे हो तुम

तुम्हें कैसे भुला देंगे

तेरी यादों में सनम, जिंदगी बिता देंगे

वादा किया था साथ चलेंगे

रूठ कर तुम हमसे, दूर हो गए

दूर हुए इतने, बहुत याद आने लगे

तन्हा हूं इतना, मन कहीं ना लगे

सुन रही हो कहीं

सुन लो मेरे दिल की जुबा

मिट्टी मेरी है यहीं, जान है मेरी कहां

कैसे रहेंगे तुम बिन सनम

जिएंगे मरेंगे तड़पेगे हम।

मिल भी गए तुम कहीं

इस जिंदगी के सफर में

तुम्हें छूना भी अगर चाहे, हम छू ना पाएंगे

दिल चाहे भी अगर मिलना

हम मिल ना पाएंगे

कैसे रहेंगे तुम बिन सनम

जिएंगे मरेंगे तड़पेगे हम।

हरिओम पोसवाल

10 thoughts on “कैसे रहेंगे तुम बिन सनम

  1. कैसे रहेंगे तुम बिन सनम
    जिएंगे मरेंगे तड़पेगे हम।

    Nice song
    Thanks sir

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *